कुदरत का अनमोल तोहफा है टमाटर

Image

कभी किसी के गोल और लाल गाल देख कर लोगों को कहते सुना होगा कि बड़े टमाटर जैसे लाल हो रहे हो. जी हां टमाटर जैसे गोल और लाल रौनकदार चेहरे कि रंगत पाने के लिए टमाटर का उपयोग किया जा सकता है. टमाटर एक ऐसी सब्जी है जो लगभग बारहो मॉस बाजार में उपलब्ध होती है. लेकिन टमाटर मात्र एक सब्जी नहीं है इसमें भरपूर पोषक तत्व होते हैं टमाटर में में कैल्शियम, फास्फोरस व विटामिन सी भरपूर मात्र मैं पाया जाता है. हालाँकि टमाटर का स्वाद अम्लीय (खट्टा) होता है, लेकिन यह शरीर में क्षारीय (खारी) प्रतिक्रियाओं को जन्म देता है। लाल-लाल टमाटर देखने में सुन्दर और खाने में स्वादिष्ट होने के साथ पौष्टिक होते हैं। इसके खट्टे स्वाद का कारण यह है कि इसमें साइट्रिक एसिड और मैलिक एसिड पाया जाता है जिसके कारण यह प्रत्यम्ल (एंटासिड) के रूप में काम करता है। टमाटर में विटामिन ‘ए’ काफी मात्रा में पाया जाता है। यह आँखों के लिये बहुत लाभकारी है।
टमाटर के कुछ घरेलू उपयोग:
-यदि एसिडिटी की शिकायत हो तो रोजाना टमाटर का उपयोग करने से ,एसिडिटी में रहत मिलती है
– बच्चों को सूखा रोग होने पर आधा गिलास टमाटर के रस का सेवन कराने से फायदा होता है।
-दो या तीन पके हुए टमाटरों का नियमित सेवन करने से बच्चों का विकास शीघ्र होता है।
-शरीर का भार घटाने के लिए सुबह-शाम एक गिलास टमाटर का रस पीना लाभप्रद है।
-यदि गठिया रोग में एक गिलास टमाटर के रस की चटनी तैयार करके उसमें एक चम्मच अजवायन का चूर्ण मिलाकर सुबह-शाम उपयोग करने से लाभ होता है।
-गर्भवती महिलाओं के लिए सुबह एक गिलास टमाटर के रस का सेवन फायदेमंद है
– टमाटर शरीर से गुर्दे के रोग को पैदा करने वाले जीवाणुओं निकाल बहार कर देता है.
-पेशाब में शुगर कि मात्र को घटने के लिए टमाटर के जूस का उपयोग लाभकारी है
-ताजे एवं लाल टमाटर को काले नमक के साथ सुबह सुबह प्रयोग करने से पाचन क्षमता बढ़ती है .
– टमाटर इतने पौष्टिक होते हैं कि सुबह नाश्ते में केवल दो टमाटर सम्पूर्ण भोजन के बराबर होते हैं। ऐसा नियमित सेवन करते रहने से आपके वजन में जरा भी वृद्धि नहीं होगी। इसके साथ साथ यह पूरे शरीर के छोटे-मोटे विकारों को भी दूर करता है।
– टमाटर के नियमित सेवन से श्वास नली का शोथ कम होता है। प्राकृतिक चिकित्सकों का कहना है कि टमाटर खाने से अतिसंकुचन भी दूर होता है और खाँसी तथा बलगम से भी राहत मिलती है।
– अधिक पके लाल टमाटर खाने वालों को कैन्सर रोग नहीं होता। इसके सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

Advertisements

गाजर में छुपा है सेहत का राज

Image

आज कल गाजर खूब बाजार में आ रही है। ऐसे में गाजर का उपयोग करके आप अपनी सेहत को दुरुस्त कर सकते हैं। वैसे भी आयुर्वेद कहता है कि सीजन या ऋतुगत सब्जियां एवं फल हमेशा शरीर के लिए लाभप्रद होते हैं। गाजर में भरपूर विटामिन ए पाया जाता है। आज हम गाजर से जुड़े कुछ घरेलू उपाय बताते हैं-
– गाजर के सेवन से आंखों की ज्योति बढ़ती है।
-यदि आपके शरीर पर कहीं भी खाज या खुजली हो गई है। त्वचा में बहुत जलन होती है तो गाजर को पीस कर गरम कर लें। उसमें हल्का सा सेंधा नमक मिला कर उस स्थान पर लेप कर लें जिस स्थान पर खाज अथवा खुजली पीड़ा दे रही है। आपको आराम पहुंचेगा। 
– रोजाना एक गिलास गाजर का जूस पीने से स्मरण शक्ति का विकास होता है।
-यदि आप गठिया के मरीज है। तो एक गिलास गाजर के रस से एक चम्मच अजमोदा चूर्ण दिन में तीन बार उपयोग करें। 
-यदि भूख न लगती हो, अरुचि हो गई हो तो ऐसे में गाजर में नमक नींबू लगा कर अदरक और पुदीने के साथ सेवन करने से भूख लगने लगती है। अरुचि नष्ट हो जाती है। 
-मधुमेह के रोगियों के लिए गाजर अमृत समझी जाती है। एक गिलास गाजर के रस में एक कप करेले का रस मिला कर पीने से मधुमेह में लाभ मिलता है। या एक गिलास गाजर के रस में आधा कप आंवले का रस मिला कर दिन में दो तीन बार पीने से मधुमेह में लाभ मिलता है। या गाजर के साथ पालक मिलाकर उसका जूस निकाल कर उसमें थोड़ा काला नमक इस्तेमाल करके मधु मेह में लाभ मिलता है। 
-यदि मूत्र संस्थान में पथरी की शिकायत हो तो रोजाना एक गाजर का सेवन करें। ऐसा करने से पथरी धीरे धीरे पेशाब के रास्ते शरीर से बाहर निकल जाएगी। ऐसा करने से मूत्रअवरोध भी दूर हो जाता है। पेशाब खुल कर आता है। 
-यदि मूंह में छाले हो गये हैं तो ऐसे में गाजर के रस को मुंह में घुमा कर कुल्ला करके उस जूस को पी लेने से मुंह के छालों में राहत मिलती है। 
-गाजर रक्त को शुद्ध करता है। इसके सेवन से शरीर की शक्ति बढ़ती है। बुढ़ापा दूर होता है। मानसिक और शारीरिक दोनों क्षमताएं विकसित होती है। 
-यदि दूध पिलाने वाली स्त्री को दूध न बन रहा हो तो गाजर का इस्तेमाल करके प्रसूता को दूध बनने लगता है। 
-गाजर में क्योंकि फाइबर की अधिकता होती है इसलिए यदि गाजर को चबा चबा कर खाया जाए तो आंतों की सफाई हो जाती है। जिससे कब्ज और गैस की समस्या में आराम मिलता है।